DBMS Kya hai in Hindi

0
DBMS kya Hai

DBMS यह शब्द सुनकर क्या समझ आता है आपको? DBMS यानिकी Database Management System, इसके नाम से ही पता चलता है की यह database software है जिसका उपयोग data manage करने के लिए किया जाता है। पर इसके बारे में सिर्फ इतना जानना ही काफी नहीं है इसलिए आपकी knowledge को बढ़ाने  के लिए आज हम आपके लिए ये बहुत ही महत्वपूर्ण article लेकर आए है जिसमे DBMS में के बारे में काफी विस्तार से बताएंगे।

तो चलिए कदम बढ़ाते है इस topic को अच्छी तरह से जानने की ओर।

DBMS क्या है?

DBMS का full-form Database Management System होता है। इसका काम data कोबनाना, संभालनाऔरडिलीटकरना होता है। यह software user और database के बीच interface की तरह काम करता है। DBMS data को organized और easy to access भी बनाता है।

DBMS हमारे computer/laptop के लिए बहुत ज़्यादा ज़रूरी है। इसके बिना हम अपने data को manage नहीं कर पाएंगे और बाकि सारे काम करना भी मुश्किल हो जाएगा।

DBMS डाटा को update करने का काम भी करता है।

DBMS को और अच्छी तरह से समझने के लिए उसके components को भी समझना ज़रूरी है।

Database Management System के components क्या-क्या हैं?

Table

इस software में सारी information को table के रूप में ही रखा जाता है जो की rows और columns से बने होते है।

Field

Table के अंदर बने हर column को field कहते है जिसमे बहुत तरह के information stored होते है जैसे की user’s number, name, street address, state इत्यादि।

Record

Table के rows के अंदर जो data होते है उन्हें record कहा जाता है। Record में ज़्यादातर लोगों के नाम,नंबर, इत्यादि होते है।

Queries

जब आप databse में से अपने ज़रुरत के अनुसार कोई information निकालते है तो उसे Query कहा जाता है।

Forms

Form का इस्तेमाल data को आसानी से store और modify करने के लिए किया जाता है।

Reports

Paper printed database records को report कहते है।

DBMS के कुछ मुख्य functions 

वैसे तो DBMS के बहुत से functions हैं पर कुछ चुनिंदा इस प्रकार है जिनके बारे में जानना ज़्यादा ज़रूरी है।

Data परिभाषित करना (Data Definition)

इसका प्रयोग organization के definition को create, delete और modify करने के लिए किया जाता है जिनसे data को बेहतर तरीके से व्यवस्थित किया जा सके|

Data अपडेट करना (Data Updation)

इसका प्रयोग database में पहले से मौजूद data को insert, delete, और modify करने के लिए किया जाता है |

Data Backup

अपने file के backup के लिए भी DBMS का इस्तेमाल किया जाता है। जब जिस file की ज़रुरत पड़ती है उसे आसानी से retrieve किया जा सकता है।

User Administrator

इसका इस्तेमाल users को register और monitor करनेकेलिए, data integrity को maintain करनेकेलिए,  data security, performance को monitor करनेऔरसाथहीसाथ concurrency control के लिए भी किया जाता है |

DBMS के main functions के बारे में तो बात हो गई, अब बारी है DBMS के प्रकारों के बारे में बात करने की।

Database Management System चार प्रकार के होते हैं –

Database Management System चार प्रकार के होते हैं –

1. Network Database:

Network Database का प्रयोग एक data का दूसरे data से सम्बन्ध दर्शाने के लिए किया जाता है। इसमें data को record के रूप में दिखाया जाता है।

2. Hierarchical Database:

यह database tree structure में होता है और इसमें data को parent-child relationship के रूप में प्रस्तुत किया जाता है।

3. Relational Database:

Rational Database सबसे ज़्यादा easy-to-use होता है इसलिए इसका इस्तेमाल भी ज़्यादा किया जाता है। इसमें data को rows और columns के रूप में दर्शाया जाता है। Rational Databse को Structure Database के नाम से भी जाना जाता है।

4. Object-oriented Database:

इसमें data को object के रूप में दिखाया जाता है जोकि दो या उससे अधिक objects के बीच की relationship हो सकती है। इसे बनाने के लिए object-oriented programming language की आवश्यकता पड़ती है।

ऊपर हमने आपको DBMS के अलग प्रकारों से बारे में जानकारी दी है। अब हम आपको बताएंगे की DBMS के फायदे क्या-क्या है? लेकिन इस software के सिर्फ फायदे ही नहीं है बल्कि कुछ नुकसान भी है जिनके बारे में हम नीचे बात करने वाले है।

DBMS के कुछ खास फायदे –

  • DBMS हमारे data को सुरक्षित रखता है। 
  • इसके प्रयोग से user आसानी से data share कर सकते है। 
  • Data को organized रखता है। 
  • इसे maintain करना बहुत आसान होता है। 
  • DBMS self-backup mode पर काम करता है। 
  • Multi-user environment को भी support करता है।
  • Data Redundancy को कम करता है।
  • DBMS की मदद से आसानी से कोई भी data को recover किया जा सकता है। 
  • Databse में data ज़्यादा consistent तरीके से रहता है। 
  • DBMS हमारे privacy का भी ध्यान रखता है। इसमें Data administrator यह decide कर सकता है की user किस data को कौन से level तक access कर सकता है।
  • Application development में बहुत काम समय लगता है जिससे की लोगों के कीमती समय की बचत होती है।

DBMS के कुछ नुकसान – 

  • DBMS के कुछ hardware और software की कीमत बहुत ज़्यादा होती है। 
  • Training के बिना DBMS पर काम करना मुश्किल हो सकता है। 
  • Database failure के भी chances होते है।

DBMS का उपयोग कहाँ-कहाँ ज़्यादा किया है?

  • Banking Sector –

Banking Sector में DBMS का प्रयोग Account holder’s की जानकारी, deposit, payment, loan इत्यादि के लिए किया जाता है।

  • Aviation Sector – 

इसका इस्तेमाल reservation और flight schedule के data के लिए किया जाता है।

  • Education Sector – 

Student’s की जानकारी, course-related information, registration, और employees के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

  • Telecom Industry – 

Call recordings, bils, balance और customer की जानकारी के बारे में data बनाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है।    

  • Finance Sector – 

Stocks, sales और purchase के record के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

  • Manufacturing Industry – 

Supply-chain Management और product related information का data बनाने के लिए DBMS का इस्तेमाल किया जाता है।

  • Railway reservation system –         

इसका इस्तेमाल reservation के data के लिए किया जाता है।

  • Social media sites में इसका प्रयोग किया जाता है। 
  • HR Management – 

इसका प्रयोग employees, salary, payroll और paycheck आदि की जानकारी को store करने के लिए किया जाता है|

E-commerce,  आदि।

कुछ प्रसिद्ध Database Management System के नाम –

  • MySQL
  • Microsoft Access
  • Oracle RDBMS
  • PostgreSQL
  • ADABAS
  • Informix
  • dBASE
  • FoxPro
  • SQLite
  • IBM DB2
  • LibreOffice Base
  • MariaDB
  • Microsoft SQL Server
  • AmazonRDS
  • Redis
  • OrientDB
  • FileMaker
  • phpMyAdmin
  • Cloudera
  • Robomongo
  • MongoDB
  • Toad
  • Sequel PRO
  • Hadoop HDFS
  • Counchbase

Conclusion

आज हमने आपको DBMS के बारे में काफी महत्वपूर्ण जानकारी दी है। हमने बात की DBMS क्या होता है, इसके कितने प्रकार होते है, इसे इस्तेमाल करने के फायदे और नुकसान, DBMS जहाँजहाँ पर सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है और अंत में कुछ softwares के नाम। 

हमने इस article में DBMS से जुड़ी हर information को cover करने की कोशिश की है। आशा है की आपको हमारा यह blog ज़रूर पसंद आएगा। मिलते है अगले Blog में। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here